The Reprogram Subconscious Mind Diaries






जॉब में प्रमोशन की बात हो तो उसके साथ वो फिर ये भी बात कर सकती थी कि प्रमोशन के बाद वो कैसी पर्स लेकर ऑफिस जाया करेंगी या कैसे कपडे पहनेंगी. जहाँ तक करियर की बात है, सुमति को कोई अंदाजा नहीं था कि इस नए जीवन में उसका क्या करियर है या क्या जॉब है. शादी के बाद वो काम कर सकेगी या नहीं? भले ही घर की छोटी छोटी चीजें वो संभालना चाहती थी पर वो अपनी जॉब नहीं छोड़ना चाहती थी… चाहे जैसी भी जॉब हों. और फिर क्या वो शादी के बाद माँ बनना पसंद करेगी? बड़ा भारी सवाल था जिसका जवाब अभी वो सोचना नहीं चाहती थी.

"I like strategies 3 and four most. Crafting goals after which you can examining them concerning what they really indicate to us. It appears to be like ridiculous, but I beloved it. It is easy to control our feelings and recognizing that what we are literally thinking of our lifetime. Many thanks!"..." far more AR Aryan Rao

Target your respiratory and also your passing ideas. Shut your eyes and begin to stick to your breath. Give attention to your inhale along with your exhale. When you loosen up, your mind will wander. Views will flow out of your subconscious mind to your acutely aware mind.

धीरे-धीरे दिल की यह कैफ़ियत भी बदल गयी और बीवी की तरफ से उदासीनता दिखायी देने लगी। घर में कपड़े नहीं है लेकिन मुझसे इतना न होता कि पूछ लूं। सच यह है कि मुझे अब उसकी खातिरदारी करते हुए एक डर-सा मालूम होता था कि कहीं उसकीं खामोशी की दीवार टूट न जाय और उसके मन के भाव जबान पर न आ जायं। यहां तक कि मैंने गिरस्ती की जरुरतों की तरफ से भी आंखे बंद कर लीं। अब मेरा दिल और जान और रुपया-पैसा सब फूलमती के लिए था। मैं खुद कभी सुनार की दुकान पर न गया था लेकिन आजकल कोई मुझे रात गए एक मशहूर सुनार के मकान पर बैठा हुआ देख सकता था। बजाज की दुकान में भी मुझे रुचि हो गयी।

बहुत संभव है कि मैं उन्हें पहले से जानती हूँ. शायद वो चैताली के माता पिता होंगे. (सुमति की शादी चैताली नाम की लड़की से होने वाली थी. पर इस नए परिवर्तन के बाद चैताली चैतन्य बन चुकी थी.)”, सुमति खुद से बातें करने लगी. सुमति को साड़ी पहन कर शालीनता से चलना पहले से ही आता था. आखिर वो इंडियन लेडीज़ क्लब की फाउंडर थी. उसने न जाने कितने ही आदमियों को सुन्दर औरत बनाया था. इन सबके बाव्जूद, अब वो खुद एक पूरी औरत है, इस बात का उसे यकीन नहीं हो रहा था, और फिर चैताली, उसकी होने वाली पत्नी, अब आदमी बन चुकी थी. किसे यकीन होगा ऐसी बातों का? सुमति अपने कमरे से बाहर आई. उसके सास-ससुर सोफे के बगल में अब तक खड़े खड़े रोहित और चैतन्य से बातें कर रहे थे. सुमति सही थी… उसके सास-ससुर चैताली के ही माता पिता थे. कम से कम ये नहीं बदला. उसने उन्हें देखा और तुरंत ही अपने सर को अपने पल्लू से ढंकती हुई उनके पैर छूने के लिए झुक गयी. जैसे कोई भी आदर्श बहु करती. एक तरफ तो सुमति चैतन्य से शादी नहीं करना चाहती थी पर फिर भी check here उसे बहु बनने में जैसे कोई संकोच न था.

As the thoughts enter your head, record them on paper. Don’t prevent producing down the mundane feelings or overlook the odd thoughts—these may have arisen from the subconscious mind. Don’t decide the thoughts or prevent to research them. Just create. Continue on recording your ideas till the timer buzzes.[10]

उसका इस वक़्त कुछ भी पकाने का मन नहीं था. “रोहित, ज़रा माँ-बाबूजी का ध्यान रखना. मैं किचन में नाश्ता बनाती हूँ. तब तक तुम उन्हें पीने के लिए पानी तो लाकर दो.”, सुमति ने अपने भाई से कहा. और भाई ने सर हिलाकर हामी भर दी.

“दोनों ही माँ-बेटी ड्रामा क्वीन हो! चलो, अब काम पर लग जाओ.. लोग आते ही होंगे.”, अंजलि ने हँसते हुए कहा.

My childhood was horrible, while! Abused in and out of foster care due to the fact I was six. I feel It is time for me to remember and go in myself. My subconscious mind is trying to tell me anything very gorgeous. My gorgeous long run. "..." much more Rated this information:

3rd, I attribute to my achievement using your principals shown earlier mentioned, And that i thank you for sharing. I'm likely to check out EFT Taping. I have not heard of that a single.

आखिर इस शांतिपूर्ण नीति को सफल बनाने न होते देख मैंने एक नयी युक्ति सोची। एक रोज मैं अपने साथ अपने शैतान बुलडाग टामी को भी लेता गया। जब शाम हो गयी और वह मेरे धैर्य का नाश करने वाली फूलों से आंचल भरकर अपने घर की ओर चली तो मैंने अपने बुलडाग को धीरे से इशारा कर दिया। बुलडाग उसकी तरफ़ बाज की मैं हूँ ५ बार बोलो तरफ झपटा, फूलमती ने एक चीख मारी, दो-चार कदम दौड़ी और जमीन पर गिर पड़ी। अब मैं छड़ी हिलाता, बुलडाग की तरफ website गुस्से-भरी आंखों से देखता और हांय-हांय चिल्लाता हुआ दौड़ा और उसे जोर से दो-तीन डंडे लगाये। फिर मैंने बिखरे हुए फूलों को समेटा, सहमी हुई औरत का हाथ पकड़कर बिठा दिया और बहुत लज्जित और दुखी भाव से बोला—यह कितना बड़ा बदमाश है, अब इसे अपने साथ कभी नहीं लाऊंगा। तुम्हें इसने काट तो नहीं लिया?

‘Pledging my affirmation to Australia is probably Just about the most mature factors I've at any time finished.’

wikiHow Contributor Goals and nightmares are thought to have numerous Added benefits for your mind and brain. Undesirable desires certainly are a way to your brain to exercise dealing with tough and emotional cases so you are greater prepared to experience complications and problems in serious lifestyle. You are going to often have A few of these, whether you remember them or not. Nevertheless, the more stressed, scared, or in any other case agitated you're, the more probable they are to boost in frequency and intensity.

सुमति जो अपने नए स्त्री वाले तन को निहारने में लगी हुई थी, अपने होंठ और अपने सुन्दर घने लम्बे बालो को सहला रही थी, उसे यह सब छोड़ अब दरवाज़ा खोलना था. पर फिर भी एक बात उसे सता रही थी. कल तक वो एक आदमी थी, पर आज पूरी दुनिया उसे सिर्फ और सिर्फ औरत के रूप में जानती है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *